Congress News: शर्मिला रेड्डी ने ‘चलो सचिवालय’ विरोध प्रदर्शन से पहले Congress दफ्तर में काटी रात

आज विजयवाड़ा में चलो सचिवालय विरोध

प्रदर्शन होने वाला है लेकिन इससे ठीक

पहले ही आंध्र प्रदेश की कांग्रेस अध्यक्ष

वाईएस शर्मिला ने खुद को पार्टी दफ्तर में

पूरी रात बंद रखा आखिर इसके पीछे की वजह

क्या है आखिर कौन सा खौफ है जो उन्हें

परेशान कर रहा है लगातार इसकी पूरी वजह

बताएंगे इस वीडियो में नमस्कार बहुत-बहुत

स्वागत है आप सभी का इन खबर में बेरोजगार

युवाओं और छात्रों की समस्याओं को लेकर

कांग्रेस ने आंध्र प्रदेश की जगनमोहन

रेड्डी की सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला हुआ

है आंध्र प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष वाईएस

शर्मिला रेड्डी जो कि सीएम जगनमोहन की बहन

भी है उन्होंने आज यानी कि गुरुवार को

विजयवाड़ा में चलो सचिवा वाले विरोध

प्रदर्शन बुलाया है और इस प्रदर्शन से ठीक

पहले खुद को उन्होंने कांग्रेस दफ्तर में

बंद रखा दरअसल हाउस अरेस्ट से बचने के लिए

वाईएस शर्मिला रेड्डी ने पूरी रात पार्टी

के दफ्तर में गुजारी चलो सचिवालय विरोध

प्रदर्शन से पहले नजरबंद किए जाने से बचने

के लिए वाईएस शर्मेला ने रात को विजयवाड़ा

के कांग्रेस में जाने का फैसला किया और वो

पूरी रात वहीं रही उन्होंने राज्य सरकार

से यह मांग की है कि वह पहले बेरोजगार

युवाओं और छात्रों की समस्याओं का निदान

करें वहीं विजयवाड़ा में आंध्र प्रदेश

रत्न भवन में मीडिया से बातचीत करते हुए

उन्होंने जानकारी दी है बता दें कि

उन्होंने कहा है कि सीएम वाए जगनमोहन

रेड्डी पिछले पांच वर्षों में युवाओं

बेरोजगारों और छात्रों के महत्त्वपूर्ण

मुद्दों का समाधान करने में पूरी तरीके से

विफल रहे हैं उन्होंने अपने एक्स अकाउंट

पर भी लिखा है कि यदि हम बेरोजगारों की

तरफ से विरोध प्रदर्शन का आवाहन करते हैं

तो क्या हमें घर में नजरबंद करने का

प्रयास किया जाएगा साथ ही उन्होंने कहा है

कि क्या लोकतंत्र में हमें विरोध करने का

अधिकार नहीं है क्या यह शर्मनाक नहीं है

कि एक महिला होने के नाते मुझे घर की

गिरफ्तारी से बचने के लिए पुलिस से बचने

के लिए खुद को कांग्रेस पार्टी के

कार्यालय में रात गुजारने के लिए मजबूर

करना पड़ा साथ ही आपको बता दें कि

उन्होंने आगे कहा है कि राज्य सरकार साथ

ही आपको बता दें कि उन्होंने राज्य सरकार

को भी निशाने पर लिया है आगे उन्होंने कहा

है कि क्या हम आतंकवादी हैं या असामाजिक

ताकतें हैं वह हमें रोकने की कोशिश कर रहे

हैं इसका मतलब यह है कि सरकार हमसे डरती

है वह अपनी अक्षमता हों असल सच्चाई को

छुपाने के लिए लगातार कोशिश कर रही है भले

वह हमें रोकने की कितनी भी कोशिश करें

हमारे कार्यकर्ताओं को हर जगह रोके या हम

उनके लिए बैरिकेड भी बांधें लेकिन

बेरोजगारों की ओर से हमारा संघर्ष यहीं

नहीं रुकेगा

Leave a Comment